भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

घोर जनरव / शिवशंकर मिश्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

घोर जनवर,
और उत्सरव,
रोज चारों ओर!
ओर भटकी साँझ कोई,
और भूली भोर!

यही सब कुछ रोज-रोज,
खोखले, मुँहखुले सारे लोग,
नफरतों की तह लगी खामोश,
जिंदगी ज्यों बन गयी है रोग;
कौन किस की बात पूछे,
कौन किस की सुन जरा ले,
प्याकर जैसे हो लुटेरा,
मित्रताएँ चोर!

स्वारर्थ सब लम्बेट हुए, सिद्धांत बौने,
भावनाएँ ठगी- अटकी रह गयीं,
हो गए प्रतिमान नैतिकता के ढुलमुल,
मान्य ताएँ तेज जल में बह गयीं;
पथों पर मुहँजोर नारे,
और भूखे, बेसहारे,
हर सफल संघर्ष के मुँह पर नकाब,
ओर पीछे शोर!