भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चंड ते काई बाहि दुखी ही / एम. कमल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चंड ते काई बाहि दुखी ही।
ॾींहं थघे जी राति तपी ही॥

सोच जा पाछा घेरे विया हा-
भव जे घुघ ॾे राह मुड़ी ही॥

शहर जो हर रस्तो रोशन हो।
ऊंदाहीं पर घिटी घिटी ही॥

रोशन हा सभिनी जा चेहरा।
ऊंदहि माण्हुनि मन में रखी ही॥

घोर ऊंदहि जे हाइ तए ते।
नूर जी हॾी-हॾी सड़ी ही॥

ऊंदहि जा हामी हा सभई।
मूं जिते पंहिंजी कुटिया अॾी ही॥

ऊंदहि में ई जिअणु-मरणु हो।
ऊंदहि रेखा टपणु ॾुखी ही॥

सुबह जो ई दिल जी तुलसीअ ते।
यादुनि ॿारी अगरबत्ती ही॥

आस जो सांझीअ ॾियो ॿरियो हो।
राति जो हल्की महक उथी ही॥

साभ्या जे आस-पास, ॾाढी
ख़्वाबनि जी ख़ुशबूइ उॾी हुई॥

अण-ॾिठे भव जे आतिशदाँ में।
तुंहिंजी मुंहिंजी आस जली ही॥

बुतु थी बीठा हुआसीं, विच में।
शीशे जी दीवार खड़ी ही॥

ॾोहु न ॾे लापरवाहीअ जो।
दूरीअ जी मूं दवा कई ही॥