भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

चंदा थारी चांदणी सी रात / मालवी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

चंदा थारी चांदणी सी रात
झालीजी रमवा नीकल्याजी म्हारा राज
रम्या-खेल्या घड़ी दोय-चार
ससराजी आणे आवियाजी म्हारा राज
चालो बऊ बड़, चालो मोटा घर की नार
छोटा घर की धीमड़ी जी म्हारा राज
जेठजी आणे आवियाजी म्हारा राज
चालो बऊ बड़, चालो मोटा घर की नार
मारूजी आणे आविया जी म्हारा राज मा
चालो भाभीसा, चालो मोटा घर की नार
मारूजी आणे आविया जी म्हारा राज
चालो मारूणी, चालो मोटा घर की नार
म्हें छोटा घर की धीवड़ी जी म्हारा राज