भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

चंदा प्यारे, आ जाओ / शकुंतला सिरोठिया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चंदा प्यारे, आ जाओ,
नींद रंगीली ले आओ।
चांद लोक की परियां भेजो, भेजो मृग का छौना,
मुन्ना मेरा सोने जाता, लगे न इसको टोना।
पलना सोने का लाओ,
चंदा प्यारे आ जाओ।
नीले रंग के पलने में हों तारे टंके सुनहले,
किरणों की हो डोरी उसमें, झुमके नीले-पीले।
लोरी मीठी गा जाओ,
चंदा प्यारे, आ जाओ।