भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चंदा मामा / शकुंतला सिरोठिया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चंदा मामा ठहरो थोड़ा,
कहाँ चले तुम जाते हो?
खेल रहे क्या आँख मिचौनी,
बादल में छिप जाते हो।
मुझे बुला लो, मैं देखूँगा
कितने हो छिपने में तेज!
नहीं पकड़ पाओगे मुझको,
मैं दौडूँगा तुमसे तेज।