भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चंदो / चैनसिंह शेखावत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चंदो
मेड़ी ऊपराकर
उचक’र
ताळ मांय झांक्यो
पण बैरी हा
धोळा धोरा
आय बिचाळै
चानणी-चूंदड़ी
खोस लीनी
ओढ’र पसरग्या।