भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चंद्र मानव / लेस मरे

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अधजमे दही की तरह छलमल
आकाश के नीचे, शादी से लौटते हुए
ऊपरी बाड़े में जब हमने गाड़ी मोड़ी
छाया के कंगारू भाग निकले

तब जाकर साफ़-साफ़ दीखा
चेहरा उस चंद्रमानव का
जो अब तक करता है तेल-मालिश अपनी माँ की
और उसे भेजता है रोशनी
कि उसने उसको हाथ-पाँवों से सलामत,
ठीक डील-डौल के साथ किया पैदा!

उसकी चमक हमारे ख़ून में है।
धरती अगर स्वस्थ हो चुकती पूरी
उस प्रसव के बाद
पैदा नहीं होता कुछ छोटा!


अंग्रेज़ी से अनुवाद : अनामिका