भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चइत कइस भुजवा बनि / भारतेन्दु मिश्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चइत कइस भुजवा बनि
घूमौ डाँय-डाँय ना
जौ चाहति हौ दउआ
अब धरि-धरि खाँय ना।

अइर-मइर कइकै
कस कटी यह जवानी
कबहुँ-कबहुँ कीन करौ
हरहन कै सानी
अइस कुछु करौ भइया
ककुआ दिकुआँय ना।

यहर-वहर घूमि-घूमि
दुपहरि काटति हौ
कलुआ की कोठरी मा
गड्डी फ्याँटति हौ
ती पर या झन्न-झार
पुरिखा बिरझाँय ना।