भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चइत में बरूआ बिदा भेल / मगही

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मगही लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

चइत[1] में बरूआ बिदा भेल, बैसाख पहुँचल[2] हे॥1॥
जइबो[3] में जइबो ओहि देस, जहाँ दादा अप्पन[4] हे।
उनखर[5] चरन पखारी के, हम पंडित होयब हे।
हम बराम्हन[6] होयब हे॥2॥
जइबो में जइबो ओहि देस, जहाँ नाना अप्पन नाना हे।
उनखर चरन पखारी के, हम पंडित होयब हे।
हम बराम्हन होयब हे॥3॥

शब्दार्थ
  1. चैत्र मास
  2. पहुँचा, आ गया
  3. जाऊँगा
  4. अपना, निजी
  5. उनका
  6. ब्राह्मण