भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चकई के चकदुम / रमेश तैलंग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चकई के चकदुम, चकई के चकदुम ।
गाँव की मड़ैया, साथ रहें हम-तुम ।

चकई के चकदुम, चकई के चकदुम ।
ग्वाले की गैया, दूध पिएँ हम-तुम ।

चकई के चकदुम, चकई के चकदुम ।
काग़ज़ की नैया, पार करें हम-तुम ।

चकई के चकदुम, चकई के चकदुम ।
फुलवा की बगिया, फूल चुनें हम-तुम ।

चकई के चकदुम, चकई के चकदुम ।
खेल ख़तम भैया, आओ चलें हम-तुम ।