भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चक्की चले ! / रमेश तैलंग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चक-चक चकर-चकर
              चक्की चले ।
हो रामा ! हो रामा ! हो रामा !

भोर से उठ माँ रामधुन गाए ।

इस हाथ, उस हाथ पाट घुमाए ।
पाट पर घूमें तो
              धरती ’हले’
हो रामा ! हो रामा ! हो रामा !
चक-चक चकर-चकर
              चक्की चले ।

पंछी को दाना, ढोरों को सानी ।
चिन्ता जगत की माँ में समानी ।
माँ ! तेरे बल से
              ’गिरस्थी’ चले ।
हो रामा ! हो रामा ! हो रामा !
चक-चक चकर-चकर
              चक्की चले ।