भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चटुल शफरी सुभग काञ्ची सी... / कालिदास

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: कालिदास  » संग्रह: ऋतुसंहार‍
»  चटुल शफरी सुभग काञ्ची सी...
प्रिये ! आई शरद लो वर!

चटुल शफरी सुभग काञ्ची-सी मनोरम दीखती है

हंस श्रेणी धवल बैठी निकट मुक्ताहार-सी है

वे नितंबों से सुमांसल पुलिन विस्तृत है रुचिर-तर

एक प्रमदा-सी नदी होती प्रवाहित मन्द-मंथर

प्रिये ! आई शरद लो वर!