भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चढ़ गयौ तेल फुलेल छुटक रई पाँखुरियाँ / बुन्देली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चढ़ गयौ तेल फुलेल छुटक रई पाँखुरियाँ।
काये कौ तेल फुलेल काये कीं पाँखुरियाँ।
चम्पे कौ तेल फुलेल रूपे की पाखुरियाँ।
को ल्याऔ तेल फुलेल को ल्याऔ पाखुरियाँ।
तेलन ल्याई तेल फुलेल मालिन ल्याई पाखुरियाँ।
भौजी ने चढ़ाऔ तेल वीरन राय बैंहदुलियाँ।
चढ़ गयौ तेल फुलेल छुटक रईं पाखुरियाँ।