भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चढी घूँट भर ही, क़दम डगमगाया / गुलाब खंडेलवाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


चढी घूँट भर ही, क़दम डगमगाया
ये सच है हमें अब भी पीना न आया

कहाँ से ये प्यार आया आँखों के अन्दर!
न तुमने बुलाया, न हमने बुलाया

अँधेरा था दिल में, अँधेरा था घर में
कोई रूप की चाँदनी लेके आया

हरेक बात में कुछ इशारा था उनका
ये नादान दिल कुछ समझ ही न पाया

गुलाब! आज होने को सब कुछ वही है
मगर उठ गया है बहारों का साया