भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चढु-चढु ए सुगना गगन गम्हीर / लछिमी सखी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चढु-चढु ए सुगना गगन गम्हीर।।
उ जे सीतल मंद सुगंध समीर।
जाहाँ झर-झर बहत धीरे धीर।।
चलु सखी पनिया भरि लेहु नीर।
सुखमन संगम सरयुग तीर।।
ससुरा से पतिया ले अइले महाबीर।
जहाँ बसे सतगुरु साहेब कबीर।।
लछिमी सखी चारो जुग कर पीर।
लेहु सखी कसमस अँगिया पहीर।।