भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चतुर्दश प्रकरण / श्लोक 1-4 / मृदुल कीर्ति

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जनक उवाचः
विषय सेवी प्रभाव से और शून्य चित्त स्वभाव से
सुप्त हैं,जाग्रत तथापि, विरत विश्व प्रभाव से.-----१

पूर्नात्मदर्शी अब मेरी विषयानुरक्ति शून्य है,
ज्ञान धन और शास्त्र मित्रों में भी रूचि अति न्यून है.------२

अयआत्मा ही ब्रह्म है और ब्रह्म ही सर्वज्ञ है,
मुझे मोक्ष की चिंता नहीं, सर्वग्य जब से विज्ञ है.------३

संकल्प शून्य विकल्प से मन, बाह्य पर उन्मत्त है,
यह दशा जाने वही, जो स्वयम ज्ञान प्रवत्त है.--------४