भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चन्दन-वन महकने लगा / धनंजय सिंह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

वेणी में
गूंथ मत गुलाब
चन्दन-वन महकने लगा ।

तुम जाने कौन हो गईं
मैं जाने कौन हों गया
मादक स्वर लहरियाँ बजीं
कोलाहल मौन हो गया

वाणी में घोल मत शराब
मेरा मन बहकने लगा ।

बर्फ़ीली रेत में उगे
गर्म-गर्म साँसों के गीत
पिघल उठा पथराया मन
लरज उठी धड़कन में प्रीत

बाँटों मत अधरों से प्यास
मधु-चुम्बन दहकने लगा ।

जीवन की परिधियाँ बढ़ी
हम तुम केन्द्राभिमुख हुए
तिर्यक स्पर्शियाँ खिंचीं
परिवर्तित दुख-सुख हुए

बाँहों में
सिमटा सैलाब
सावन-घन डहकने लगा ।