भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चम्बा की धूप / कुमार विकल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ठहरो भाई,

धूप अभी आयेगी

इतने आतुर क्यों हो

आख़िर यह चम्बा की धूप है—

एक पहाड़ी गाय—

आराम से आयेगी.

यहीं कहीं चौग़ान में घास चरेगी

गद्दी महिलाओं के संग सुस्तायेगी

किलकारी भरते बच्चों के संग खेलेगी

रावी के पानी में तिर जायेगी.

और खेल कूद के बाद

यह सूरज की भूखी बिटिया

आटे के पेड़े लेने को

हर घर का चूल्हा —चौखट चूमेगी.

और अचानक थककर

दूध बेचकर लौट रहे

गुज्जर— परिवारों के संग,

अपनी छोटी —सी पीठ पर

अँधेरे का बोझ उठाये,

उधर—

जिधर से उतरी थी—

चढ़ जायेगी—

यह चम्बा की धूप—

पहाड़ी गाय.