भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चरवाहु / पढ़ीस

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

परभाती हँसि पलास के बन का धीरे-धीरे
लाली-लाली अँगुरिन ते गुदगुदी छुटयि जगायि रही।
बिन पातिन के छिपुलन पर टेसू फूले झलयिं,
का परलयि[1] की फउजयि हाँथन पर अंगार नचायि रही?
यी सोने की ब्यारिया माँ अँटकति, नाचति, उछरति
चरवाहन की टोली का अगुआ वुहु सुन्दर सॉवलिया-
चरवाहु चला बंसीवाला।
गाढ़ा की चुस्त मिरजई, तिहि पर फ्याँटा बँसुड़ी,
कानन बारी, मूड़ मुड़इठा[2] काँधे झब्बा झूलि रहा।
पहुँचारी पहींदे हाथे लीन्हें धनुही - तरकसु,
दगर-दगर माथे ऊपर तिरपुण्डु किहे इँटक्वहरा का।
र्याख [3] उठता ज्वानु र्वाब देंही ते बरसइ
खोड़स बर्स किसोर राम का निरछल रूपु मनोहर वुहु-
चरवाहु चला बंसीवाला।
काँकर[4] की कुरसी-मेज जोरि इजलासु [5] बनवयिं-
लरिका करयिं मुकदिमा बाजी कस सरपुचु सोहायि रहा!
हँसि-हँसि कयि लिखयि बयानु, देयि पातिन के पुरजा,
सजा बोलि कयि कैदु करयि, वुहिका सब हुकुम बजायि रहे,
जब सँडवा डहँकयि, तित्तुर बहँसयिं होयि लराई,
झूँठ-मूँठु का राजा वुहु साँचउ राजा अस चितयि-चितयि-
चरवाहु चलयि बंसलवाला।
जब ठीक दुपहरी खिली, बड़े मुखिया की बिटिया-
आयी चाउर-दूध पूजि जंगली-नाथ सिउ-संकर का।
छ्वटकये लरिकवा गाँसि चिढ़वयिं ‘‘काकी!’’ ‘‘भउजी!’’
वह पियारू कयि लेयि देखि, चरवाहु हँसयि हिरदउँ खोले।
ज्याठ की - पुरनमासी, मंगरू, रोहिनी नखत पर
यहयि रूप की रासि चलयि दुलहिनि बनि कयि आगेपाछे-
चरवाहु चलयि बंसीवाला।
जंगल के बीच तलाउ, किनारे गोरू छिटके,
आँबु[6] अक्यलवा[7] ऊपर बउरा क्वयिली टुटू-टुटू ब्वालयिं।
बन फल सब बीनि-बटोरि लरिकवा लयि-लयि आँवयिं
चीखि-चीखि दादा का दयि-दयि, भउजी ते ठलुहायि[8] करयिं-
सब नंगी देही पर पियार[9] का जामा पहिंदे
कँगलन बीच प्रेम-माया की अगनित गठरी बाँधि-बाँधि।
चरवाहु चला बंसीवाला।
गउहाने[10] तर खजूरि ऊपर जब चढ़यि चँदरमा,
रहस-मंडली मचयि मजे माँ, खपटन[11] के तबला बाजयिं-
लरिकवा घेरि दादा भउजी दूनऊ का पकरयिं,
"क्यसन कँध्य्या यहयि नीक जब राधा-रानी तुहें बनयिं।"
दूनउँ दूनउँ का देखि याक क्वँड़रा[12] मा नाचयिं
सबके सुखते सुखी भवरहरे लीला पूरी होतयि खन-
चरवाहु चला बंसीवाला।

शब्दार्थ
  1. प्रलय
  2. सिर पर बाँधे जाने वाली पगड़ी
  3. रेखा, हल्की दाढ़ी-मूँछ
  4. कंकड़
  5. इजलास, अदालत
  6. आम
  7. सबसे अकेला, अलग
  8. मजाक, मसखरी
  9. प्यार, प्रेम
  10. चरागाह में जानवरों के बैठने का स्थान
  11. मिटटी के बर्तन के टुकड़े
  12. वृत्त, घेरा