भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चलत चलत मोरा सुरत थाकल / किंकर जी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

॥समदन॥

चलत चलत मोरा सुरत थाकल, गुरु के नजर भेल दूर।
जनम-जनम से भक्ति न कैलहु, ताहि से नजर भेल दूर॥
यद्यपि गुरु मोरा सब में रमल छथि, पिंड-ब्रह्मांड भरपूर।
पुनि हुनका से नेह नहिं कैलहु, ताहि से गुरु भेल दूर॥
दृष्टि युगल करि करउ निहोरा, करहु दुसह दुख दूर।
‘किंकर’ कैलाएक अहैंक (गुरु के) भरोसा, करहु मनोरथ पूर॥