भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चलेछ वतास सुस्तरी / बुद्धवीर लामा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चलेछ वतास सुस्तरी
मनै सरर
भरोसा छैन जीवनको
बिताऊँ हाँसेर
कहिलेमा कहीं रमाइलो हुन्छ
भेटघाट हुँदामा
छातीको ज्वाला ननिभ्ने रैछ
बसेर रुँदामा
बिहानी हुन्छ उदाउँछ घाम
साँझमा डुब्छ रे
हिजोको बालक आजको यौवन
भोलि त लुक्छ रे