भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चलो पंक्षी रे सब पावणा / निमाड़ी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

    चलो पंक्षी रे सब पावणा,
    आरे घुँगू बाई को छे ब्याव
(१) मिनी बाई का माथा प टोपलो,
    आरे मिनी बाई चली रे बाजार
    खारीक खोपरा लई लियाँ
    सईड़ीयों चावा रे पान...
    चलो पंक्षी...

(२) मिनी बाई बाजार से आईया,
    आरे ऊदरो पुछ हिसाब
    ऐतरा म आया कुतराँ जेट जी
    मिनी बाई भाँग ऊबी वाँट...
    चलो पंक्षी...

(३) हाड़ीयाँ न डोल बजावीयाँ,
    आरे कबुतर नाच बताये
    काबर वर मायँ बणी गई
    चीड़ीयाँ गाव मँगला चार...
    चलो पंक्षी...

(४) घुस न माटी खोदीयाँ,
    आरे डेडर कर रे गीलावों
    मैयना ने काम लगावीयाँ
    कोयल आई वई दवड़...
    चलो पंक्षी...