भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चलो बाँट लेते हैं अपनी सज़ायें / सरदार अंजुम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चलो बाँट लेते हैं अपनी सज़ायें
ना तुम याद आओ ना हम याद आयें

सभी ने लगाया है चेहरे पे चेहरा
किसे याद रखें किसे भूल जायें

उन्हें क्या ख़बर हो आनेवाला ना आया
बरसती रहीं रात भर ये घटायें