भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चल दीदी पढ़ै लेॅ / अंजनी कुमार सुमन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चल नेॅ तोहूँ पढ़ै लेॅ दीदी
सबसें आगू बढ़ै लेॅ दीदी

घर में बैठल की करभी तों
झुट्ठो के सूटर गढ़भी तों
काम धाम के उमर पड़ल छौ
छोड़े ई सब गढ़ै लेॅ दीदी
चल नेॅ तोहूं पढ़ै लेॅ दीदी
सबसे आगे बढ़ै लेॅ दीदी।

देखी मुनियां भी जाबै छै
ओकरा क, ख, सब आबै छै
बप्पा के कहबौ तोरा पर

आब काम नै मढ़ै लेॅ दीदी
चल नेॅ तोहूँ पढ़ै लेॅ दीदी
सबसे आगे बढ़ै लेॅ दीदी।

जे जे सुनबै छौ सब नानी
मिलै किताबें वही कहानी
सिखभी खेला रंग-बिरंगा
मिलतौ पक्का चढ़ै लेॅ दीदी
चल नेॅ तोहूँ पढ़ै लेॅ दीदी
सबसे आगे बढ़ै लेॅ दीदी।