भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चल मेरे घोड़े / रामजन्मसिंह शिरीष

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चल मेरे घोड़ टम्मक-टम!
चल मेरे घोड़े ठम्मक-टम!!

चीता रोके तो लड़ जाना,
हाथी टोके तो चढ़ जाना,

गफलत मत कर बढ़ बे गम,
चल मेरे घोड़े टम्मक-टम!

खाई देख नहीं रुकना है,
टीला देख नहीं झुकना है,

चल दुलकी चल जम जम जम,
चल मेरे घोड़े टम्मक-टम!

अपने हिन हिन बोल सुना दे,
ठुमक ठुमक कर नाच दिखा दे,

बाँध के घुँघरू छम छम छम
चल मेरे घोड़े टम्मक-टम!