भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चल रहे थे नज़र जमाये हम / विकास शर्मा 'राज़'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चल रहे थे नज़र जमाये हम
मुड़ के देखा तो लड़खड़ाये हम

खोलता ही नहीं कोई हमको
रह न जाएँ बँधे-बंधाये हम

प्यास की दौड़ में रहे अव्वल
छू के दरिया को लौट आये हम

एक ही बार लौ उठी हमसे
एक ही बार जगमगाये हम

जिस्म भर छाँव की तमन्ना में
उम्र भर धूप में नहाये हम