भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चांद अेकलो : अेक / चैनसिंह शेखावत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उपाधियां रै ढिगलै माथै
चांद सफा अेकलो

आभै में
कदै इण कूणै
तो कदै उण

जितरो आगो है चांद धरती सूं
जिनगी सांच्याणी
उतरी ईज आंतरै

कदै तो इण गळी आव रै चंदा
जे हुय सकै
आभै स्यूं धरती तांईं रो
कर देखाण सफर।