भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चांद अेकलो : तीन / चैनसिंह शेखावत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

म्हैं देख्यो है
सैर रै आकासां में
नीबळो निरवाळो सो हांडतो

कवियां मांडी कवितावां
चितारया चितराम
प्रेमियां टांग दियो
प्रेमिकावां रै जूड़ै
फूलां भेळै

पण जे निजरां थोड़ी सावळ होंवती
दीस जांवतो मुळकतो चांद

आखी कवितावां कूड़ी
सगळा चितराम नकारा
प्रेमियां जे टणकारता चंदै
हेत चांदणी बण’र बरसतो
प्रेमिकावां माथै

म्हैं देख्यो है
अणमणै सरै सूं
रीसाणों है चांद।