भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चांद पर जन्म नहीं लेती एक भी गीत-कथा / ओसिप मंदेलश्ताम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: ओसिप मंदेलश्ताम  » संग्रह: तेरे क़दमों का संगीत
»  चांद पर जन्म नहीं लेती एक भी गीत-कथा

चांद पर

जन्म नहीं लेती

एक भी गीत-कथा


चांद पर

सारी जनता

बनाती है टोकरियाँ


बुनती है पयाल से

हल्की-फुल्की टोकरियाँ


चांद पर

अंधेरा है

उसके आधे हिस्से में


और शेष में

घर हैं साफ़-सुथरे


नहीं, नहीं

घर नहीं हैं चांद पर

सिर्फ़ कबूतरख़ाने हैं


नीले-आसमानी घर

जिनमें रहते हैं कबूतर


(रचनाकाल : 1914)