भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

चातक चकोर मोर शोर करि बोले हाय घटा भी घमंड घेरी घेरी बर्षतु है / महेन्द्र मिश्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

 चातक चकोर मोर शोर करि बोले हाय घटा भी घमंड घेरी घेरी बर्षतु है।
सावन का झरान अब राखे कुलकाने अब बादल बिलंद बूंद रोज हर्षतु है।
रैन अँधियारी कारी दिख डर लागे सखि बिजली तो अचानक आय रोज गर्जतु है।
द्विज महेन्द्र सावन मन भावन नहीं आये हाय पुरूवा निगोरी अब त रोज सनकतु है।