भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चान मामा, चान मामा! हँसुआ देॅ / अंगिका लोकगीत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

चान मामा, चान मामा ! हँसुआ देॅ।
सेहो हँसुआ कथी लेॅ ? घँसवा कटावै लेॅ।
सेहो घँसवा कथी लेॅ ? गैया केॅ खिलावै लेॅ।
सेहो गैया कथी लेॅ ? गोरबा परवावै (लदवावै) लेॅ।
सेहो गोबर कथी लेॅ ? एँगना लिपवावै लेॅ।
सेहो एँगना कथी लेॅ ? गेहुँमा सुखावै लेॅ।
सेहो गेहुँमा कथी लेॅ ? अँटवा पिसावै लेॅ।
सेहो अँटवा कथी लेॅ ? पुड़िया पकावै लेॅ।
सेहो पुड़िया कथी लेॅ ? भौजोॅ केॅ खिलावै लेॅ।
सेहो भौजो कथी लेॅ ? लाल बेटा जनमावै लेॅ।
लाल बेटा कथी लेॅ ? गुल्ली-डंडा खेलै लेॅ।
गुल्ली-डंडा टुटी गेल, भौजो के बेटवा रूसी गेल।