भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चाय / रमेश तैलंग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

न होटल की,
न मोटल की,
मैं गुमटी वाले की चाय।

यहाँ सामने बेंच पड़ी है,
आजू-बाजू भीड़ खड़ी है,
नमस्कार जी,
सुबह-सुबह के,
मैं, पहले प्याले की चाय।

रिक्शे वाले यहाँ जुड़े हैं,
झल्ली वाले यहाँ जुड़े हैं,
ऊपर की न
यहाँ कमाई,
मैं निचले माले की चाय।

यहाँ न कोई चमक-दमक है
चाय यहाँ की मगर कड़क है
जो उधार दे देता सबको
मैं हूँ उस लाले की चाय।