भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चारा नहीं था कोई ये झूटी दलील थी / ओम प्रकाश नदीम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चारा नहीं था कोई ये झूटी दलील थी ।
कोशिश नहीं की तुमने अगरचे सबील[1] थी ।

अफ़्सोस तुम मिले थे मुझे ऐसे मोड़ पर,
मेरी हर एक आरज़ू जब खुदकफील[2] थी ।

जिस दिन गए वो, जाग के देखा था मैंने ख़ुद,
उस दिन की रात और दिनों से तवील[3] थी ।

ऐसा पहाड़ टूट पड़ा, ख़्वाहिशात का,
मिस्मार[4] हो गई जो अना की फ़सील[5] थी ।

राह-ए-ख़ुदा पे चलने की हिम्मत नहीं रही,
राह-ए-वफ़ा ही इतनी ज़ियादा तवील थी ।

पत्थर बनी है राह का सीरत[6] मेरी ’नदीम’
कल तक ये ज़िन्दगी के लिए संग-ए-मील थी ।

शब्दार्थ
  1. उपाय
  2. आत्मनिर्भर
  3. लम्बी
  4. ध्वस्त
  5. ऊँची चारदीवारी
  6. स्वभाव