भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चाल भतूळा रेत रमां! : दो / राजूराम बिजारणियां

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


देख पावणा
चौकी आवतां

ताण मोद में सिर
टोकीजोड्या दोनूं हाथ।

लगा सुसरै जी रै धोक
देंवतो फेरी
बटाऊ भतूळियो

करणै सारू सिलाम
ढळग्यो
लुळतो पड़ाल कानीं।