भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

चाहत निकारत तिन्हैं जो उर अन्तर तैं / जगन्नाथदास ’रत्नाकर’

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चाहत निकारत तिन्हैं जो उर-अन्तर तैं
ताकौ जोग नांहि जोग मन्तर तिहारे में ।
कहै रतनाकर बिलग करिबे मैं होति
नीति विपरीत महा कहति पुकारे में ॥
तातैं तिन्हैं ल्याइ लाइ हियँ तैं हमारे बेगि
सौचियै उपाय फेरि चित्त चेतवारे में ।
ज्यौं-ज्यौं बसे जात दूरि-दूरि प्रान-मूरि
त्यौं-त्यौं धँसे जात मन-मुकुर हमारे में ॥80॥