भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चाहत / पूनम भार्गव 'ज़ाकिर'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

लौटते समय सोचना
कि तुम किस पगडंडी से आए थे
सोचना कि
शिकायतें
कितनी फितरती रहीं तुम्हारी
खेत की छाती पर धरी जलती ईंट के
निशान बता देंगें
आग की तासीर

जल रही है धूप भी
तुम्हारी कारगुजारियों से
जूते में चल रहे पैर
सिर पर चढ़ने की गुहार लगा रहे हैं
सिर ढूँढ रहा है छाँव
दिमाग़ बेहद व्यस्त है
मशीनों से निकाल रहा है समाधान

दूसरी तरफ़
निर्जला बिठा दी गई
एक नन्ही परी दे रही है निमंत्रण पत्र
बादलों के मसीहा को
और शिद्द्त से चाहती है कि
उसे जुकाम हो जाए

उसने सुना था
दादी की एक कहानी में
कि छींक भी दे ईश्वर तो बारिश होती है!