भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

चिंता-मनि मंजुल पँवारि धूरि-धारनि मैं / जगन्नाथदास ’रत्नाकर’

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चिंता-मनि मंजुल पँवारि धूरि-धारनि मैं,
कांच-मन-मुकुर सुधारि रखिबौ कहो ।
कहै रतनाकर वियोग-आगि सारन कौं,
ऊधौ हाय हमकौ बयारि भखिबौ कहौ ॥
रूप-रस-हीन जाहि निपट निरूपि चुके,
ताकौ रूप ध्वाइबौ औ’ रस चखिबौ कहौ ।
एते बड़े बिस्व माहिं हेरें हूँ न पैये जाहि,
ताहि त्रिकुटी मैं नैन मूँद लखिबौ कहौ ॥