भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चिट्ठियों से भरा झोला / गुरप्रीत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: गुरप्रीत  » संग्रह: आज की पंजाबी कविता
»  चिट्ठियों से भरा झोला


कविता आई सुबह-सुबह
जागा नहीं था मैं अभी
सिरहाने रख गई- ‘उत्साह’।

उठा जब
दौड़कर मिला मुझे ‘उत्साह’
कविता की चिट्ठियों से भरा झोला थमाने।

एक चिट्ठी
मैंने अपनी बच्ची को दी
‘पढ़ती जाना स्कूल तक
मन लगा रहेगा…’

एक चिट्ठी बेटे को दी
कि दे देना अपने अध्यापक को
वे तुझसे बच्चा बन कर मिलेंगे...

चिट्ठी एक कविता की
मैंने पकड़ाई पत्नी को
गूंध दी उसने आटे में।

पिता इसी चिट्ठी से
आज किसी घर की
छत डाल कर आए हैं!

नहीं दी चिट्ठी मैंने माँ को
वह तो खुद एक चिट्ठी है !

मूल पंजाबी से अनुवाद : सुभाष नीरव