भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चिड़ियाँ और कविताएँ-4 / कुमार विकल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पिछले साल

ठीक इन्हीं दिनों

जो परदेसी परिंदे आए थे

तुमने उनमें से एक चिड़िया को लक्षित किया था

और उसे एक साँवला—सा नाम दिया दे था.

इस बार भी सभी परिंदे आए हैं

सिर्फ़ वही चिड़िया नहीम है

जबकि तुमने

उसके स्वागत के लिए

एक नया नाम रच लिया था

और अपनी नई कविताएँ

उसको समर्पित करने का फ़ैसला कर लिया था.