भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चितवन-पथ में / रामेश्वरलाल खंडेलवाल 'तरुण'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गोधूली वेला के तरु के
अन्तराल से छनकर उतरी-
स्वर्ण-तीर-सी कान्त किरण में
उड़ते रज-कण को मिलती-श्री!

अमर स्पर्श यह मधुर प्रेम का
प्राणों को विस्मय से भरता!
रजकण क्षुद्र; अषाढ़ साँझ-सा-
फूल समोद दमकता फिरता!

अरुण तुम्हारे चितवन-पथ में
पड़ कर, प्राण! किसी दिन सहसा-
लघु रजकण से हुआ बदलकर
मैं भी आभावान्-कनक-सा!