भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चित्र /राम शरण शर्मा 'मुंशी'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ओस
या कि पसीने की बून्दें
श्रम-शलथ धरती के माथे पर ...

                     धूप
                     या कि ओढ़नी मज़दूरिन की,
                     छाँह के किनारे पर ...

यह खनक
चूड़ियों की, बर्तनों की
या, टूटी ज़िन्दगी की झनझनाहट ओसारे पर ...

                     एक लम्बा दिन
                     या कि भूखा अजगर
                     राह के किनारे पर !