भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चिरई रे सोबई चुनगुन रे / बघेली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बघेली लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

चिरई रे सोवई चुनगुन रे सोवई
सोइ गे नगरवा के लोग
राजा के सोहागवा
एक नहीं सोये हैं अजवा कउन सिंह
जेखे घरे नतिनी कुंवारि
राजा के सोहागवा
चिरई के सोवइं चुनगुन रे सोवई
सोइ गे नगरवा के लोग
एक नहीं सोये हैं बपवा कउन सिंह
जेखे घरे बिटिया कुंवारि
राजा के सोहागवा
चिरई रे सोवइ चुनगुन रे सोवई
सोइ गे नगरवा के लोग
एक नहि सोये हैं भइया कउन सिंह
जेखे घरे बहिनी कुंवारि
राजा के सोहागवा