भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चीन का सौदागर / श्रीनाथ सिंह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

एक चीन का सौदागर था,
बहुत बड़ी थी उसकी चोटी
उसे लपेट लपेट कमर पर,
था वह लेता लगा लंगोटी।
उस चोटी में फंस फंस करके,
गिर जाते थे अगणित राही।
इससे सड़कों पर चलने की,
थी उसको हो गई मनाही।
पर वह घर में बैठे बैठे,
भी उत्पात मचाता था।
फंस कर गिरते वायुयान थे,
चोटी अगर उड़ाता था।
उसका लड़का चतुर बड़ा था,
था उसने मन में ठाना।
खुल सकता है इस चोटी के,
बल पर बड़ा कारखाना।
बस वह बोला मौका पाकर,
बप्पा मानो मेरी बात।
कम्बल लोई और दुशाले,
क्यों न बनायें हम दिन रात।
बात चतुर बेटे की फ़ौरन,
बूढ़े सौदागर ने मानी।
चोटी का वह सेठ कहाया,
दूर हूई उसकी हैरानी।