भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चीर-चीर कमठी को पिंजरा बनायो / पँवारी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पँवारी लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

चीर-चीर कमठी को पिंजरा बनायो
एना पिंजरा मऽ रव्हन नी पाई मऽराऽ गोविन्द रे
पिंजरा की मयना मऽरीऽ उड़ऽ चली।।
सोन्ना की चिड़िी मऽरीऽ उड़ऽ चली
बाबुल जी रोवय ओको छेला रे भीजय
माय की भीजय गुलसाड़ी रे
मऽराऽ बाबुलजी की बेटी बिहानी। सोन्ना की।।
काहे खऽ रोवय मऽराऽ गहरो सो बाबुल
काहे खऽ दी परदेश रे
मऽराऽ बाबुलजी की बेटी बिहानी। सोन्ना की।।