भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चुनाव हमारे विद्यालय में / नागेश पांडेय 'संजय'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मम्मी! हुआ चुनाव हमारे विद्यालय में

ढेरों बच्चे थे प्रत्याशी
सभी जीत के थे अभिलाषी
बढ़े हुए थे भाव हमारे विद्यालय में।

कुछ जीते हैं, कुछ हारे हैं,
लेकिन फिर भी खुश सारे हैं,
है कितना सद्भाव हमारे विद्यालय में।

अब सब मिलकर काम करेंगे,
विद्यालय का नाम करेंगे,
कितना सुन्दर चाव हमारे विद्यालय में।

यहां सभी को हैं सब प्यारे,
यहां नहीं गिरतीं सरकारें,
नहीं पेंच या दाँव हमारे विद्यालय में।