भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चुनौती / शकुन्त माथुर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दुनिया तेरी भी है
स्पेस, चाँद, सितारे बड़े-बड़े
सूरज, आकाशगंगाएँ
माना बहुत बड़ी हैं
माना बहुत बढ़िया हैं

किन्तु मैंने भी तो
ढेला फेंका है पानी में
कुछ समय जल को घेरा है
मैं पृथ्वी पर लेटी हूँ
मैंने कुछ पृथ्वी घेरी है
मैं कह सकती हूँ
इतना
ये सब
मेरा है
मेरा है।