भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चुप की देह / पारुल पुखराज

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कुतरने की आवाज़ नहीं
रेंगने की सिहरन से भरी
रात

चुप के सहारे
कट जाती

चुप की देह
चींटियों से
अटी