भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चुप ही है लड़की / कविता भट्ट

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


स्वयंप्रभा थी,
सुरम्या थी ,जो कभी
दीपशिखा-सी
मौन है ओढ़े हुए
बुझी रात्रि के
यों शीत तिमिर से
कुछ नमी है
मन के भीतर ही
आँखों की छत
अब भी न टपकी
चुप ही है लड़की...
-0-