भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चुहिया रानी / प्रभुदयाल श्रीवास्तव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बिल से निकली चुहिया रानी,

लगी चाल चलने मस्तानी|

बोली मैं हूँ घर की मुखिया,

दुनिया है मेरी दीवानी|

मेरी मर्जी से ही मिलता,

सबको घर का राशन पानी|

मुझसे आकर कोई न उलझे,

पहलवान है मेरी नानी|

तभी अचानक खिड़की में से,

आ धमकी बिल्ली महारानी|

डर के मारे बिल में घुस गई

वीर बहादुर चुहिया रानी|