भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चूहा भाई / प्रभुदयाल श्रीवास्तव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सुबह-सुबह चूहा भाई ने,
संपादक को डांटा।

'चार लेख भेजे थे मैंने,
नहीं एक भी छापा।'

संपादक ने एक पत्रिका,
उसकी तरफ बढ़ाई।

बोला 'इसमें आप छपे हैं,
इसको पढ़ लो भाई।'

मुख्य पृष्ठ पर ज्योंहि उनको,
बिल्ली पड़ी दिखाई।

डर के मारे दौड़ लगाकर,
भागे चूहा भाई।